Waters of Life

Biblical Studies in Multiple Languages

Search in "Hindi":
Home -- Hindi -- Romans - 046 (God’s Plan of Salvation)
This page in: -- Afrikaans -- Arabic -- Armenian -- Azeri -- Bengali -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- French -- Georgian -- Hebrew -- HINDI -- Indonesian -- Malayalam -- Polish -- Portuguese -- Russian -- Serbian -- Spanish? -- Telugu -- Turkish -- Urdu? -- Yiddish

Previous Lesson -- Next Lesson

रोमियो – प्रभु हमारी धार्मिकता है|
पवित्र शास्त्र में लिखित रोमियों के नाम पौलुस प्रेरित की पत्री पर आधारित पाठ्यक्रम
भाग 1: परमेश्वर की धार्मिकता सभी पापियों को दण्ड देती है और मसीह में विश्वासियों का न्याय करती है और पापों से मुक्त करती है। (रोमियों 1:18-8:39)
इ - हमारा विश्वास हमेशा के लिए बनाहुआ (रोमियो 8:28-39)

1. परमेश्वर की उद्धार की योजना हमारी आगामी महिमा का अनुमोदन करती हैं (रोमियो 8:28-30)


रोमियो 8: 28-29
28 और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्‍पन्न करती है; अर्थार्थ उन्‍हीं के लिये जो उस की इच्‍छा के अनुसार बुलाए हुए हैं। 29 क्‍योंकि जिन्‍हें उस ने पहिले से जान लिया है उन्‍हें पहिले से ठहराया भी है कि उसके पुत्र के स्‍वरूप में होंताकि वह बहुत भाइयोंमें पहिलौठा ठहरे।

जो कोई भी यह जानता है, परमेश्वर अनुभव करते है कि वह सर्व शक्तिमान है, उनकी जानकारी एवं इच्छा के बिना इस दुनिया में कुछ भी नहीं होता है| वह सर्व समर्थ हैं| यद्यपि हम नियति वाद में विश्वास नहीं करते, जैसा कि कुछ धर्म करतें हैं, क्योंकि हम जानतें हैं कि महान परमेश्वर हमारे दयालु पिता हैं जो निरंतर हमारा ध्यान रखते हैं कभी हमारा नुकसान नहीं होने देते, कभी हमें अनदेखा नहीं करतें हैं या हमें छोड़ नहीं देते हैं| इसी लिए हम उनसे प्रार्थना करते हैं कि उनके प्रेम में हमारे विश्वास को शक्ति प्रदान करे ताकि समस्याओं और आत्याचारों में भी हमारा विश्वास दूर हट ना पाये| परमेश्वर के प्रेम में हमारे विश्वास की पुष्टि हमें देने के लिए पौलुस ने हमारे व्यक्तिगत उद्धार के अनुमोदन की एक श्रंखला हमें लिखी है ताकि हम ना तो संदेह कर पायें ना ही डगमगा पायें|

परमेश्वर ने तुम को तुम्हारे जन्म से पहले चुना है, क्योंकि तुम उनके हृदय में एक विचार थे| इस जगत की बुनियाद से पहले से वह तुम को जानते हैं| अतः वह तुम्हारे अस्तित्व, तुम्हारी प्रकृति और तुम्हारे उद्धेश्य के अंदरूनी छिद्रों को जानते हैं| परमेश्वर के साथ तुम्हारा रिश्ता जितना तुम सोचते हो, उससे गहरा है| तुम कहीं बाहर के नहीं बल्कि उन के निकट एवं उनके जानकर हो| वह तुम्हारा इन्तजार करते हैं, जैसे एक पिता अपने खोए हुए पुत्र का इन्तजार करता है| परमेश्वर तुम को उससे कहीं अधिक चाहतें हैं जितना कि तुम उनको चाहते हो|

भूतकाल के सारे युगों से पहले अनंत परमेश्वर तुम को जानते हैं| जैसे तुम्हारे भविष्य के लिए, उन्होंने एक गौरव शाली उद्धेश्य तुममे पहलेसे डाल दिया है, क्यों कि उन्होंने अपनी दैवीय इच्छा की पूर्णता द्वारा तुम को पहले से ही अपना पुत्र नियत कर रखा है और यह यीशु मसीह के द्वारा है, जो तुम्हारे अपराधों को लेकर चले गए, और तुम्हारे अपराधों के शरीर को सूली पर लाए| केवल मसीह में तुम्हारी पसंद की पुष्टि हुई है| जो कोई भी पुत्र की संधि को तुरंत पकड़ लेता है, कभी भी उससे दूर नहीं जा पायेगा, क्यों कि पवित्र एक मात्र विश्वसनीय है| इसलिए, पहचानिए कि परमेश्वर ने तुम्हारे जीवन का एक उदेश्य दिया है, और तुम्हे मसीह की छबी के समान महिमामयी बनने के लिए नियत कर रखा है, जो कि अपने पिता के दाहिने हाथ की ओर बैठें हैं| परमेश्वर अपने पुत्रों को अलग अलग पदवी देना नहीं चाहते, परन्तु वे सभी को दब्बू पन और विनम्रता की परिपूर्णता की ओर ले चलते हैं ताकि तुम अपने आप को नकार कर उस पथ पर चल पाओ जैसे मसीह हमारी पृथ्वी पर चले थे|

रोमियो 8: 30
30 फिर जिन्‍हें उन से पहिले से ठहराया, उन्‍हें बुलाया भी, और जिन्‍हें बुलाया, उन्‍हें धर्मी भी ठहराया है, और जिन्‍हें धर्मी ठहराया, उन्‍हें महिमा भी दी है।।

परमेश्वर ने अपने प्रेम के विचारों का मानवीकरण किया, और तुमसे मानवरूप में बात की|

क्या तुमने उनकी आवाज को अपने हृदय की गहराई में सुना था ? क्या उनका बुलावा तुम्हारे अस्तित्व के कठोर अंदरूनी छिद्रों को भेदता है? याद रखो कि परमेश्वर ने तुम्हे तब चुना, जब तुम अपराधी थे, और उन्होंने तुम्हे पहले से ही अपनी संतान नियत कर रखा था| उनका विचार था तुम्हे जो कि घमंड और कामुकता में मर चुके हो का नवीनीकरण करना ताकि तुम शुद्धता, संयम, सच्चाई और खरेपन में चमक पाओ| पवित्र जीवन जीने के लिए तुम्हारे अंदर कोई शक्ति नही है सिवाय परमेशर के वचन के, जोकि तुममे कार्य करता है| इसीलिए पवित्र बाईबिल को निरंतर पढो, क्यों कि इन काले अक्षरों द्वारा परमेश्वर तुमसे सीधी बात करते है|

परमेश्वर ने अपने मित्र सलाहकार को, तुम्हारे उद्धार के सत्य की नीव में स्थान दिया है जो कि शैतान की शिकायतों द्वारा अपने स्थान से नहीं हिला है| हमारे परमेश्वर ने तुम्हे अपने पुत्र की क्षतिपूर्ति मृत्यु द्वारा न्यायोचित ठहराया है, और एक ही बार तुम्हारे सारे अपराधों को पोछकर साफ कर दिया था| अब तुम मसीह के न्यायीकरण में न्यायसंगत हो, और उनके उद्धार में शुद्ध माने जा रहे हो| तो कब तुम तुम्हारे परमेश्वर को धन्यवाद दोगे, उस प्रेम के लिए जो उन्होंने तुम्हे प्रदान किया है? कब तुम उनके मार्गदर्शन में विश्वास करोगे, और उनके ईमानदार अनुग्रह की स्तुति करोगे?

परमेश्वर, उनकी शक्ति में तुम्हारी अपेक्षा अधिक दृढनिश्चयी है| उन्होंने तुम्हे पवित्र आत्मा का तत्व, अपने महिमामयी जीवन की जमानत के रूप में दिया| इसीलिए आज तुममे परमेश्वर की महिमा का सत्व छिपा हुआ है| जैसे मसीह केवल विश्वासियों की आँखों को ही नजर आते हैं, तो उनका प्रेम, सच्चाई, और धीरज तुममे कार्य करता है| परमेश्वर की आत्मा स्वयं अपने सद्गुणों के साथ तुममे फल लाता है, यदि तुम अपने रक्षक के साथ हो| पौलुस यह नहीं कहते कि परमेश्वर भविष्य में तुम्हारी प्रशंसा करेंगे, परन्तु विश्वास द्वारा वह स्वीकारते, है कि भूतकाल में उन्होंने तुम्हारी प्रशंसा की थी, क्योंकि पौलुस गंभीरतापूर्वक आश्वस्त थे कि यीशु विश्वास के रचयिता और पूर्णात्मा है| इसी लिए वह जिसने तुम्हारी आत्मा में उद्धार का आरंभ किया था, ईमानदार है| वह तुम्हे अपनी विशेषताओं के बल पर ज्ञान देते है, शक्ति देते है और तुम्हे परिपूर्ण करते है| क्या जीवन में तुम्हे समस्याएं है? क्या तुम भूखे, या बीमार हो? क्या तुम एक रोजगार की तलाश में हो? क्या तुम शाला में असफल हो? यह सभी बातें महत्वहीन हैं, क्योंकि परमेश्वर तुम्हारे साथ है| वह तुमसे प्रेम करते है ध्यान रखते हैं, और अपनी आँख में पुतली की तरह रखते हैं| वह तुम्हे भूले नहीं हैं, परन्तु वह अपनी योजना को अन्त तक पूर्ण करते है| पवित्र परमेश्वर ने तुम्हे अपने आपको दत्तक लेने के लिए चुना है, तो, अपने आपको नकारो अपनी सूली उठाओ, और परमेश्वर के पुत्र का सूली से कब्र तक अनुसरण करो और फिर प्रशंसा करो, क्योकि सभी बाते, उनके लिए जो परमेश्वर से प्रेम करते है का भला करने के लिए, साथ में कार्य करती हैं| क्या तुम उनसे प्रेम करते हो जिन्होंने पहले तुमसे प्रेम किया?

प्रार्थना: ओ पवित्र परमेश्वर, जो एक में त्रयी हैं, हम आपकी आराधना करते हैं क्योकि आपने हमें चुना, हमारे पुराकाल से हमें जाना और पहले से मसीह में हमें नियत कर रखा था उनके प्रेम की महिमा से ढकने के लिए| हम कौन हैं कि आप हमें चुने? हमें हमारे अपराधों के लिए क्षमा करे, और हमारे कानो को खोलिये ताकि हम पवित्र शास्त्र में आपके बुलावे को सुन पाये आपके पुत्र के लहू द्वारा हमारे न्यायीकरण को स्वीकार करे, और आपके निष्ठावान प्रेम के लिए आपका धन्यवाद| हम आपके मार्गदर्शन में विश्वास करते हैं, और आपसे विनती करते है की आप हमें आश्वासन से निश्चित करें कि हम बुरी परिस्थिति में कहीं दूर ना जाये, बल्कि आपकी पवित्र आत्मा के हमारे अन्दर निवास का अनुभव करें, महिमा के आने की जमानत के रूप में|

प्रश्न:

50. क्यों सभी बाते उसके लिए जो परमेश्वर से प्रेम करता है, के अच्छे के लिए साथ में कार्य करती है?

जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्‍पन्न करती है|
(रोमियो 8:28)

www.Waters-of-Life.net

Page last modified on March 05, 2015, at 11:53 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)