Waters of Life

Biblical Studies in Multiple Languages

Search in "Hindi":
Home -- Hindi -- Romans - 037 (Deliverance to the Service of Christ)
This page in: -- Afrikaans -- Arabic -- Armenian -- Azeri -- Bengali -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- French -- Georgian -- Hebrew -- HINDI -- Indonesian -- Malayalam -- Polish -- Portuguese -- Russian -- Serbian -- Spanish? -- Telugu -- Turkish -- Urdu? -- Yiddish

Previous Lesson -- Next Lesson

रोमियो – प्रभु हमारी धार्मिकता है|
पवित्र शास्त्र में लिखित रोमियों के नाम पौलुस प्रेरित की पत्री पर आधारित पाठ्यक्रम
भाग 1: परमेश्वर की धार्मिकता सभी पापियों को दण्ड देती है और मसीह में विश्वासियों का न्याय करती है और पापों से मुक्त करती है। (रोमियों 1:18-8:39)
द - परमेश्वर की शक्ति हमें अपराध कि शक्ति से छुडाती है| (रोमियो 6:1 - 8:27)

3. कानून से उद्धार हमें मसीह के सेवा के लिए सौंपता है| (रोमियो 7:1-6)


रोमियो 7:1-6
1 हे भाइयो, क्‍या तुम नहीं जातने (मैं व्यवस्था के जाननेवालों से कहता हूं), कि जब तक मनुष्य जीवित रहता है, तब तक उस पर व्यवस्था की प्रभूता रहती है? 2 क्‍योंकि विवाहिता स्त्री व्यवस्था के अनुसार अपके पति के जीते जी उस से बन्‍धी है, परन्‍तु यदि पति मर जाए, तो वह पति की व्यवस्था से छूट गई। 3 सो यदि पति के जीते जी वह किसी दूसरे पुरूष की हो जाए, तो व्यभिचारिणी कहलाएगी, परन्‍तु यदि पति मर जाए, तो वह उस व्यवस्था से छूट गई, यहां तक कि यदि किसी दूसरे पुरूष की हो जाए, तौभी व्यभिचारिणी न ठहरेगी। 4 सो हे मेरे भाइयो, तुम भी मसीह की देह के द्वारा व्यवस्था के लिये मरे हुए बन गए, कि उस दूसरे के हो जाओ, जो मरे हुओं में से जी उठा: ताकि हम परमेश्वर के लिये फल लाएं। 5 क्‍योंकि जब हम शारीरिक थे, तो पापों की अभिलाषायें जो व्यवस्था के द्वारा थी, मृत्यु का फल उत्‍पन्न करने के लिये हमारे अंगोंमें काम करती थी। 6 परन्‍तु जिस के बन्‍धन में हम थे उसके लिये मर कर, अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए, कि लेख की पुरानी रीति पर नहीं, बरन आत्मा की नई रीति पर सेवा करते हैं।।

पौलुस चाहते थे कि रोम में विश्वास करने वाले मूल रूप से यहूदी भाई आपके द्वारा दी गई शिक्षा को, उनकी नैतिक मृत्यु के आदर के साथ, और विश्वासियों के रूप में उनके पुनरुत्थान को स्वीकार करेंगे| यद्यपि पौलुस यह भी जानते थे कि आपको कानून की स्तिथि की दिशा में एक स्पष्ट उत्त्त देना था, क्योंकि सभी रहस्य प्रकटीकारणों के ऊपर, वे इसमें परमेश्वर की प्रेरणा देख रहे थे, और जो दैवीय पूर्णता मूसा को दी गई होगी|

पौलुस ने उनको कह था: तुम जो कानून को जानते हो और उससे प्रेम करते हो, एक सीमा में इससे बंधे हो जैसे एक जोड़ा वैवाहिक अनुबंध में बंधा है| और जैसे वैवाहिक अनुबंध किसी एक विवाहित भागीदार की मृत्यु से समाप्त हो जाता है, तो क्योंकि तुम यीशु की मृत्यु में मर चुके हो, तो तुम्हे कानून से छुटकारा मिल गया है| उनका दफ़न किया हुआ शारीर जैसे तुम्हारा है, कि मृत्यु की तुम्हारे ऊपर कोई शक्ति नहीं है|

अब तक यीशु मसीह भी मृत्यु से जी उठे तो अब तुम जो स्वतंत्र हो जीवन के राजकुमार को चुने और परमेश्वर के पुत्र के साथ एक नयी वाच बनाओ| पुरानी वाचा कानून के अंतिम न्याय के लिए एक मृत्यु की वाचा थी| अब जैसे कि तुम जीवन के राजकुमार के साथ एक मित्रता में प्रवेश कर चुके हो, उनकी आत्मा के फल तुममे दिखाई देंगे, प्रेम, आनंद, शांति, दयालुता, अच्छाई, ईमानदारी, कुलीनता, आत्म सयम वैसे ही यीशु मसीह की सभी विशेषताएँ; अहसानमन्दता, पवित्रता सच और संतोष तुममे बहुतायत से दिखे|

परमेश्वर तुम्हारे जीवन में अपने पुत्र के फलों की अपेक्षा करते हैं क्योंकि यीशु मरे, जी उठे और अपनी आत्मा मनुष्यों में उंडेल दी कि बहुत से लोग उनके फलों की पूर्णता को सामने ला सके| जैसे एक अंगूर का बागान लगाने वाले फलों की आशा में कड़ी मेहनत करता है, तो परमेश्वर का तुम पर अधिकार है|

यीशु से पहले आदमीको कानून के दास के रूप में गिना जाता था जब तक उसके शरीर में सभी कमूकताएं फलती फूलती थी क्योंकि कानून के निषेध बुराई करने के लिए उकसाते थे| कानून हमें मृत्यु के अधिक फल लाने के लिए प्रेरित करता है| यह हमें केवल उल्लंघनों की ओर ही नहीं खींचता, परन्तु यह हमें क्रूरतापूर्वक दण्ड भी देता है|

यद्यपि यीशु में हम कानून की सभी आवश्यकताओ के लिए मरे, जिसे यीशु ने अपनी मृत्यु द्वारा कानून को पूरी तरह से पूरा कर दिया था| तब से अब तक सूली पर चढाये गए में विश्वास द्वारा हम स्वयं को मार चुके है, हम अपने आप को मृतकों में गिनते है और रहस्य प्रकटीकरण को पुराने पत्र से अपने आपको मुक्त करते है|

इसी समय, परमेश्वर के पुत्र ने हमें नयी वाचा में बुलाया है, जोकि एक उत्तम रहस्यप्रकटीकरण पर पाया गया है ताकि हम कानून के अक्षर पर ठोकर ने खाने पाए बल्कि परमेश्वर की आत्मा की शक्ति में उनकी सेवा करें| हमारा जीवन खतरनाक निषेधों के साथ घिरा हुआ नहीं है, बल्कि दैवीय शांति की शक्ति में आनंदमय जीवन के लिए प्रेम भरे निमंत्रण द्वारा पुनर्जीवित हो चुका है| नयी वाचा की आत्मा कभी पुरानी नहीं होती है, न ही उदासीन है क्योंकि यह स्वयं परमेश्वर है और उनकी पूर्णता समाप्तहीन है| उनके पास ज्ञान, अच्छाई, दयालुता और आशा की असीमित क्षमताएँ हैं| इसीलिए परमेश्वर के सुसमाचार में उनकी आत्मा के मार्गदर्शन को अपने आपको पूरी तरह से समर्पित कर दो ताकि तुम आत्मिक समृधि और दैवीय शक्ति पा सको, और मसीह की विनम्रता एवं दीनता में बढ़ो क्योंकि तुम मर चुके हो और वह तुम में जोवित है|

प्रार्थना: ओ पवित्र परमेश्वर, हम धन्यवाद करते है कि आपने हमें नियमों की जकडन से, यीशु की मृत्यु द्वारा अपने पास बुलाया, यीशु जो अपने जीवन में और अपनी सूली पर प्रेम और सच से भरपूर थे| हम आपकी महिमा करते है क्योंकि आपने हमें नए सौदे की ओर खीचा और आप अपनी राहत देने वाली आत्मा के साथ हमारे ह्रदयों में रहते हैं ताकि हम आपके अनुग्रह की शक्ति द्वारा उन फलों को ला सके|

प्रश्न:

41. क्यों सभी विश्वासी पुराने नियम की शर्तों से छुडाये जा चुके हैं?

किन्तु हमारा तो यह विश्वास है कि प्रभु यीशु के अनुग्रह से जैसे हमारा उद्धार हुआ है,
वैसे ही हमें भरोसा है कि उनका भी उद्धार होगा|

(प्रेरितों के काम 15:11)

www.Waters-of-Life.net

Page last modified on March 05, 2015, at 11:51 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)