Waters of Life

Biblical Studies in Multiple Languages

Search in "Hindi":
Home -- Hindi -- Tracts -- Tract 08 (Who is Christ?)
This page in: -- Armenian? -- Burmese -- Chinese -- Dagbani? -- English -- German? -- Hausa -- Hebrew -- HINDI -- Igbo -- Indonesian -- Japanese -- Korean? -- Nepali? -- Peul? -- Somali -- Telugu? -- Thai? -- Turkish -- Twi? -- Uzbek -- Yoruba

Previous Tract -- Next Tract

पत्रक - वितरण के लिये लघु बायबलसंबंधी सन्देश

पत्रक 08 -- मसीह कौन हैं?


राजनितिक और धार्मिक दल अपने संस्थापको के सिद्धांतों और जीवनियों को पुस्तकों एवं इंटरनेट पर दर्शाकर, उनके नियमों को चमकते रंगों और उत्तेजित प्रचार में प्रस्तुत करने का प्रयास करते है|

मरियम के पुत्र इस प्रचार के निकट सौम्यता से खड़े है| जो कोई भी उनको जानने की इच्छा रखता है, वे स्वयं उसको अपना परिचय देते है| “मसीह” यह शीर्षक 569 बार नए नियम में आया है| मरियम के पुत्र ने स्वयं यह कहकर अपनी पहचान व्यक्त की थी: “प्रभु का आत्मा मुझमे समाया है उसने मेरा अभिषेक किया है ताकि मै दीनों को सुसमाचार सुनाऊँ | उसने मुझे बंदियों को यह घोषित करने के लिए कि वे मुक्त है, अन्धों को यह सन्देश सुनाने को कि वे फिर दृष्टी पायेंगे, दलितों को छुटकारा दिलाने को और प्रभु के अनुग्रह का समय बतलाने को भेजा है|” (लुका 4:18-19)

मसीह एक मात्र अभिशेकित ने ऊपर दी गई भविष्यवाणी को कहकर उस रहस्य पर से पर्दा हटाया था जो उपदेशक यशायाह को मसीह के जन्म के 700 वर्ष पहले प्रकट किया गया था| (यशायाह 61:1,2)

( मरियम के पुत्र का जन्म परमेश्वर की आत्मा से हुआ था| साथ ही परमेश्वर ने अपनी पवित्र आत्मा मसीह पर अपनी पूर्णता में भेजी ताकि वे पूरी समरसता के साथ कार्य कर सके और परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर सके| वह हमेशा अपराधमुक्त, शुद्ध और पवित्र थे|

मसीह ने गवाही दी कि वही हैं “वह एक जिसका परमेश्वर की आत्मा के साथ अभिषेक किया गया था”| पुराने नियम में राजाओं, उच्च याजकों और उपदेशको को पवित्र तेल से आशीषित किया जाता था जो इस बात का प्रतीक होता था कि वे लोग अपने कार्यों को पूरा करने के लिए परमेश्वर की शक्ति एवं बुद्धि को प्राप्त कर चुके हैं| पराने नियम में तेल के साथ प्राप्ति का चिन्ह केवल एक छाया मात्र है जो मसीह में प्रकट की गई थी| उन्हें पवित्र आत्मा के साथ आशीषित किया गया था कि वे एक अनंत राजा (दानिय्येल 7:13-14) अन्तिम उच्च याजक (भजन संहिता 110:4) वादा किये गये उपदेशक (व्यवस्थाविवरण 18:15), अपराधियों के मध्यस्थ (यशायाह 53) और परमेश्वर के वचन का अवतार (य्श्याह 61:1-2) के समान, उन सभी कर्तव्यों को जिनकी भविष्यवाणी की जा चुकी थी, को पूरा कर सके| शीर्षक “मसीह” मरियम के पुत्र का नाम नहीं है, परन्तु यह उनकी सेवाओं, योजनाओं और परमेश्वर द्वारा आशीषित को स्पष्ट करता है|


किस कारण से मसीह भेजे गये?

सृष्टिकर्ता ने मसीह को भेजा और पवित्र आत्मा के साथ उनको शक्तिशाली बनाया गरीबों के लिए प्रचार और मुक्ति का शुभ संदेश उनको देने के लिए, ताकि वे परमेश्वर के क्रोध से छूट जाये और न्याय के दिन न्यायोचित ठहराये जायें |

परमेश्वर ने महान, अमीर, पढ़े लिखे या, महत्वपूर्ण लोगो को प्राथमिकता नहीं दी परंतु निम्न, असफल, अपराधियों, कमजोर गरीब और जिनको सहायता की आवश्यकता थी, की ओर वे प्रेम और करुणा में परिवर्तित हुए थे| सर्व शक्तिमान ने उनके मसीह का त्रस्त, जाति बहिष्कृत लोगों के लिए अभिषेक किया था ताकि वे लोग उनकी पवित्र आत्मा से आशा, आध्यात्मिक शक्ति और अनंत जीवन का दान पा सके|

मसीह अपने संदेश को “सुसमाचार” कहते थे – एक उत्तेजना पूर्वक शुभ समाचार| यह एक संदेश है जो प्रत्येक उस व्यक्ति को जो उनपर विश्वास करता है को परमेश्वर के परिवार में लाता है, उन्हें स्वर्ग में घर प्रदान करता है| सुसमाचार दुनिया की नफरत के ऊपर विजयी है| मसीह के वचनों ने झूठ, छल, कपट को दूर कर दिया और अस्वच्छता एवं व्यभिचार पर विजय पाई| परमेश्वर की आत्मा, उनमे जो सुसमाचार को सुनते, स्वीकार करते और उसके संदेश के साथ रहते है, में निवास करता है| सुसमाचार तुम्हारे लिए परमेश्वर का उपहार है| वह जो इस को नहीं पढता या मसीह से इस अनुपम दान को स्वीकार नहीं करता वह गरीब, निराश, और जीवित परमेश्वर के साथ मित्रता से दूर रहता है|

मसीह ने घोषित किया था कि उन्हें लोगों के लिए जो अपनी चिंताओं एवं अपराधों के कारण टूट चुके थे, भेजा गया था| वह लोग जो शैतान की सत्ता के अंतर्गत अपने अपराधों में बंध चुके है, को मसीह ने छुडाया है| उन्होंने उनको जो आध्यात्मिक रूप से मर चुके थे, को उठाया एवं पवित्रता व ईमानदारी में जीवन दिया| मसीह ने रिक्त वचनों का ज्ञान नहीं दिया, बल्कि जैसा उन्होंने कहा था, वैसा जीवन जिया| जो कोई भी सुसमाचार और कुरान में उनके चमत्कारों को पढता है, जान सकता है कि मरियम के पुत्र सच्चे मसीह परमेश्वर के प्रेम की शक्ति के साथ अभिषेकित है| वह कब्र में मरे नहीं है वह जीवित है| उन्होंने अपने अनुयायियों को प्रोत्साहित किया था कि उनमे, उनकी आध्यात्मिक शक्ति की अनुभूति होगी|

क्या तुम पवित्र आत्मा के साथ अभिषेकित हो?

मसीह स्वार्थी नहीं थे| उन्होंने पवित्र आत्मा द्वारा किया गया अभिषेक और दैवीय शक्ति को केवल अपने तक ही सिमित नहीं रखा| उन्होंने पवित्र आत्मा हताश लोगों को जो अपने हृदयों में परमेश्वर की शांति ढूंढते है, को प्रदान किया, ताकि वे भी अनुग्रह की आत्मा से अभिषेकित हो और परमेश्वर के प्रेम से भर जायें| तुम अपने आप से पूछो, “क्या मुझे अपराधों से घिरे हुए अस्वच्छ मनुष्य के समान रहना चाहिए? या मै मसीह द्वारा पवित्र एवं न्यायोचित एवं उनकी पवित्र आत्मा के साथ अभिषेकित होने की इच्छा करता हूँ?” उन्होंने कहा था,

“जो मेरे पास आता है, मै उसे कभी नहीं लौटाऊँगा|” (यूहन्ना 6:37);

“जो विश्वासी है, वह अनंत जीवन पाता है|” (यूहन्ना 6:35,47; 8:12; 10:27-28; 11:25-26);

“और हर वह जो जीवित है और मुझमे विश्वास रखता है, कभी नहीं मरेगा|”

प्रिय पाठकों
यदि तुम इन दैवीय वादों की गहराई को पहचान चुके हो, तों अपने हृदय को मसीह, एकमात्र अभिषेकित की ओर लगाये, ताकि वे तुमको भी उनकी पवित्र आत्मा के साथ भर दें|

मसीह ने इस दैवीय अभिषेक के रहस्य को घोषित किया: उनका आगमन परमेश्वर द्वारा स्वीकृत समय लाना है, मूसा के शरिया में हमने पढ़ा कि पचास वर्षों के बाद, सभी दास स्वतंत्र हो जाना चाहिए और उनको उनके पूर्व अधिकार वापस दे देना चाहिए (लैव्यव्यवस्था 25:10)

यह महान आध्यात्मिक उद्धार की ओर एक संकेत है| मसीह अपराधों के दासों को उनकी अस्व्च्छ्ताओं से छुड़ाना एवं उनके अतिक्रमणों से वापस परमेश्वर के पास जो उनकी प्रतीक्षा कर रहे है, लाना चाहते हैं| मसीह के पास ऐसे उद्धार की शक्ति एवं अधिकार है, हमारे पापों के प्रतिस्थापनीय प्रायश्चित के लिए हम उनका धन्यवाद करते हैं| परमेश्वर ने मूसा द्वारा नियम दिये परंतु अनुग्रह और सत्य यीशु मसीह के द्वारा आया (यूहन्ना 1:17) संसार के अपराधों के लिए मसीह के प्रायश्चित के बाद प्रत्येक व्यक्ति परमेश्वर की ओर बिना किसी रूकावट या बाधा के मुड सकता है| जो कोई भी मसीह की ओर मुड़ता है बह उनकी पवित्र आत्मा के साथ अभिषेक, परमेश्वर के राज्य के उत्तराधिकारी की एक प्रतिज्ञा के रूप में प्राप्त करता है| वे लोग न्याय के दिन परमेश्वर को एक अनंत न्यायधीश के रूप में देखेंगे| वे एक दयालु पिता जो उनकी प्रतीक्षा कर रहे है के रूप में दिखाई देंगे और आनंद एवं उल्लास के साथ उनको ग्रहण करेंगे|


मै मसीह को कैसे जानता हूँ?

मै जैसे अपराधों का एक कैदी और इन्द्रियों के आनंद के दास के समान रहता था| मै हमेशा ऐसी खोज करता था जो मेरी काम-वासना की आवश्यकताओं को तृप्त कर पाये, मुझे सुख और खुशियाँ दे पाये और मेरे हृदय को प्रेम से भर दे परंतु व्यर्थ ना हो| मुझे ऐसे आनंददायी अवसरों पर आनंद के क्षणों का अनुभव था, परंतु ऐसे आनंददायी क्षण शीघ्र ही ओझल हो जाते, और खालीपन की भावना वापस से घेरने लगती थी| मै जीवन के इस मार्ग पर चल रहा था तब तक जब तक की मै ने यीशु मसीह रक्षक के बारे में सुना जो हमें समस्याओं से छुडाते है| मैंने उन्हें ढूँढना आरंभ किया, और मेरे एक मित्र ने मुझे उन कार्यों के बारे में जो मरियम के पुत्र ने मानवीयता के बचाव के लिए किये थे बताया| उसने मुझसे कहा था कि कैसे यीशु मेरे जीवन के मार्ग को बदल सकेंगे|

मसीह मेरे लिए मर गये कि मुझे अनंत जीवन दे पाये ताकि मै अनंत आनंद और खुशियों का जीवन जी पाऊँ | यद्यपि खुशियाँ पाने के लिए मै जानता हूँ कि मुझे मेरे हृदय को उनको सौंप देना चाहिए ताकि वे उसे प्रेम एवं आनंद से भर सके| तब मैंने निर्णय लिया यीशु मरियम के पुत्र से प्रार्थना करने और उनसे यह मांगने के लिए कि वे मुझमे प्रवेश करे और मेरा जीवन लेले| उन्होंने वास्तव में मुझमे प्रवेश किया और मुझमे अपना बचाव कार्य आरंभ किया| अब मै अनंत आनंद और खुशियों के साथ जीता हूँ| अत्याचारों के द्वेष में, मै भय या चिन्ता का अनुभव नहीं करता क्योंकि वो मेरा ध्यान रखते हैं और मेरी आवश्यकताओं को पूरा करते हैं| मै आपको आमंत्रित करता हूँ प्रिय पाठकों, इस ओर कदम बढ़ाये और मसीह से प्रार्थना करें कि वे तुम्हारे आसपास की सारी समस्याओं के बीच अनंत आनंद और शांति तुम्हे दें| यर्दन का एक युवक

प्रार्थना
अत्यधिक अनुग्रही और दयावान परमेश्वर, आप उन सभी के आध्यात्मिक, पिता हैं जो हमारे अपराध स्वीकार करते हैं| हम आपका धन्यवाद करते हैं कि आपने हमारे अस्वच्छ जगत में यीशु मसीह एक मात्र अभिषेकित को भेजा| हम इस योग्य नहीं कि मसीह के निकट आये या आपकी शुद्ध आत्मा को प्राप्त करे, क्योंकि हम सभी अपराधी हैं| यद्यपि आपने उन्हें जो आत्मा में दीन है को आशीष दी| आपने मसीह के प्रायश्चित को स्वीकार किया, इसलिए मै आपकी स्तुति करता हूँ और आपसे प्रार्थना करता हूँ कि आप मेरा भी पवित्र आत्मा के साथ अभिषेक करें ताकि मै परिवर्तित हो पाऊँ और विनम्र, शुद्ध, अनंत, दयावान, पवित्र और मसीह के समान प्रेम से भर जाऊँ|


क्या तुम मसीह के बारे में और अधिक जानना चाहते हो?

हम मसीह का सुसमाचार ध्यान मनन और प्रार्थनाओं के साथ तुमको, तुम्हारे आग्रह पर, बिना मूल्य के भेजने को तैयार है| हमारी तुमसे केवल इतनी प्रार्थना है कि तुम इस सुसमाचार को पढ़ने की प्रतिज्ञा कर लो और प्रार्थना करो ताकि तुम परमेश्वर की अनंत शांति को प्राप्त करो|


अपने मित्रों में मसीह के शुभ समाचार का वितरण करें

यदि तुमने मसीह के द्वारा नये जीवन का अनुभव किया है और उनके आध्यत्मिक अभिषेक को प्राप्त किया है, तों यह पर्चा अपने मित्रों को दो| हम तुम्हे इसकी और भी प्रतियाँ भेजने को तैयार हैं यदि तुम ने इसे अविश्वासियों में बाँटने का निर्णय लिया है और उनके लिए प्रार्थना करते हो जो इसे प्राप्त करेंगे| हम तुम्हारे पत्र की प्रतीक्षा कर रहे हैं| अपना पूरा पता लिखना ना भूले तों हमारे पत्र तुम तक पहुँच सकते है|

WATERS OF LIFE
P.O. BOX 60 05 13
70305 STUTTGART
GERMANY

Internet: www.waters-of-life.net
Internet: www.waters-of-life.org
e-mail: info@waters-of-life.net

www.Waters-of-Life.net

Page last modified on March 05, 2015, at 12:20 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)